छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ी संस्कृति के रंगों से रंगी ब्रीफकेस से निकला छत्तीसगढ़ बजट 2023-24

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने सोमवार को वित्तीय वर्ष 2023-24 का बजट पेश किया. बजट पेश करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा इस्तेमाल किया गया ब्रीफकेस छत्तीसगढ़ी सभ्यता, संस्कृति और परंपरा और संस्कृति के प्रति छत्तीसगढ़ सरकार की प्राथमिकता की झलक देता है। बजट ब्रीफकेस का डिजाइन सुदूर वनांचल क्षेत्र की विश्व प्रसिद्ध ग्रैफिटी कला द्वारा तैयार किया गया है। बजट ब्रीफकेस के सामने की ओर छत्तीसगढ़ महतारी का एक भित्ति चित्र बनाया गया है, जो छत्तीसगढ़ महतारी के प्रति मुख्यमंत्री की आस्था और प्रेम को दर्शाता है, साथ ही यह संदेश भी देता है कि बजट सभी लोगों के लिए छत्तीसगढ़ के प्यार की तरह एक उपहार है। छत्तीसगढ़ महतारी। समान रूप से प्यार करने वाला। ब्रीफकेस के दूसरी ओर बछड़े को दूध पिलाती गाय के साथ कामधेनु मां का चित्र अंकित है जो नागरिकों के प्रति सरकार के स्नेह को दर्शाता है।

ऐसे तैयार हुआ बजट ब्रीफकेस – बजट ब्रीफकेस में अंकित वॉल पेंटिंग छत्तीसगढ़ के शहरी गौठान में बने गाय के गोबर के पेंट से बनाई गई है. प्रदेश के दो शहरों रायपुर एवं अंबिकापुर स्थित नगरीय गौठान में गोबर के पेंट का व्यवसायिक उत्पादन शुरू किया गया है. यह कलाकृति गौठान में बनने वाले इमल्शन में वाटर कलर पिगमेंट मिलाकर सरगुजा के सुखरी गांव के भित्ति कलाकार ने तैयार की है. गाय के गोबर के पेंट से बनी आर्टवर्क से बनी म्यूरल पेंटिंग से बजट पर ब्रीफकेस तैयार करने में 15 दिन का समय लगा है और कलाकार द्वारा 09 अलग-अलग रंगों का इस्तेमाल किया गया है।

यह बजट ब्रीफकेस छत्तीसगढ़ राज्य की वर्तमान प्राथमिकताओं को दर्शाने में सफल रहा है, राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में गौठानों को केन्द्रित करते हुए ग्रामीण एवं शहरी आजीविका पार्क खोले जा रहे हैं तथा छत्तीसगढ़ की संस्कृति एवं कला भी सरकार की प्राथमिकताओं का विषय रही है, गौठानों में गोबर से बना यह पेंट विश्व प्रसिद्ध हो रहा है साथ ही सरगुजा का भित्ति चित्र भी विश्व प्रसिद्ध है, यह सरकार की प्राथमिकताओं को दर्शाता है। मुख्यमंत्री द्वारा विगत वर्षों में बजट ब्रीफकेस में कोसा, बस्तर कला, गोबर ब्रीफकेस आदि का प्रयोग किया गया है.

भित्ति चित्र एक ऐसी परंपरा है जो छत्तीसगढ़ी संस्कृति को दर्शाती है। रजवार भित्ति कला के माध्यम से प्रकृति एवं ग्रामीण परिवेश का चित्रण किया गया है। इसमें प्लाईवुड, नारियल की रस्सी, मिट्टी का इस्तेमाल किया जाता है, आखिर में इसे प्राकृतिक रंगों से रंगा जाता है। गाय के गोबर से पेंट बनाने में 30 प्रतिशत गाय के गोबर का उपयोग किया जाता है, गाय के गोबर से तैयार घोल को ब्लीच करके पेंट तैयार करने के लिए कुछ अन्य घटकों को मिलाकर एक बेस इमल्शन तैयार किया जाता है, जिसमें किसी भी रंग, डिस्टेंपर को पिगमेंट मिलाकर इमल्शन तैयार किया जाता है।

Hind Trends

हिन्द ट्रेंड्स एक राष्ट्रीय न्यूज़ पोर्टल हैं , जिसका उद्देश्य देश- विदेश में हो रही सभी घटनाओ को , सरकार की योजनाओ को , शिक्षा एवं रोजगार से जुड़ी खबरों को देश की जनता तक पहुँचाना हैं। हिन्द ट्रेंड्स समाज के हित सदेव कार्यरत हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button